रसायन विज्ञान क्या है (What Is Chemistry)

रसायनविज्ञान क्या है (What Is Chemistry)

रसायन विज्ञान भौतिक विज्ञान की वह शाखा है जिसके अन्दर पदार्थ एवं इसके भौतिक और रासायनिक गुणों, रासायनिक संरचना, तथा इनमे होने वाले भौतिक और रासायनिक परिवर्तनो व इन प्रक्रियाओं निकलने वाली ऊर्जा का अध्ययन अध्ययन किया जाता है|
इस ब्रह्माण्ड की सभी वस्तुएँ पदार्थ से बनी हुई है जिनमे से ज्यादातर वस्तुए तो दिखाई देती है (ठोस और तरल पदार्थ) लेकिन कुछ हैं वस्तुए अदृश्य होती है।
रसायन विज्ञान को भौतिक विज्ञान (Material Science) कहा जाता है क्योंकि यह सभी भौतिक पदार्थों से संबंधित है- जैसे हवा, पानी चट्टानों, खनिजों, पौधों, मनुष्य सहित सभी जानवर, पृथ्वी एवं अन्य ग्रह ।

रसायन-विज्ञान-क्या-है-What-Is-Chemistry
रसायन विज्ञान क्या है (What Is Chemistry in Hindi)
बीसवीं सदी के प्रसिद्ध वैज्ञानिक, लिनुस पॉलिंग(Linus Pauling) के अनुसार

रसायन-विज्ञान पदार्थों (Substances) उनके गुणधर्म, (properties), संरचना (structure) एवं परिवर्तनो (transformations)-का विज्ञान है |

रसायन विज्ञान एक बहुत ही दिलचस्प विषय है जो हमारी संस्कृति, हमारे पर्यावरण अर्थात लगभग हमारे जीवन के हर पहलू, छूता है इसने हमारी सभ्यता को काफी हद तक बदल दिया है। वर्तमान मे रसायन विज्ञान ने मनुष्य को एक स्वस्थ, खुशहाल और अधिक आरामदायक जीवन प्रदान किया है|
बड़ी संख्या में सामग्री जो हम आज उपयोग करते हैं, जिनके बारे मे इस सदी के अंत तक अज्ञात थे। कुछ दशकों पहले, आपके कपड़े और जूते, और अन्य दैनिक जीवन में काम आने वाली वस्तुएं मुख्यतया केवल प्राकृतिक उत्पादों से बने होते थे जैसे-
वनस्पति फाइबर, ऊन, बाल, जानवरों की त्वचा आदि, लेकिन, अब सिंथेटिक फाइबर का उत्पादन कारखानों में बड़े पैमाने पर किया जाता है। मनुष्य को मिलने वाली नई प्लास्टिक, ईंधन, धातु,मिश्र धातु, उर्वरक, भवनसामग्री, दवाओं, ऊर्जा स्रोतों, आदि आधुनिक रसायनशस्त्र की ही देन है।
पिछले कुछ दशकों के दौरान, रसायन विज्ञान का ज़बरदस्त विस्तार हुआ है। इसका क्षैत्र अब अधिक विस्तृत और जटिल हो गया है। रसायन विज्ञान को बेहतर तरीके से समझा जा सके इसकी सुविधा के लिए के लिये इस विषय को विभिन्न शाखाओं में विभाजित किया गया है।  
रसायन विज्ञान की चार मुख्य शाखाएँ हैं:
(i) कार्बनिक रसायन (Organic Chemistry)
(ii) अकार्बनिक रसायन (Inorganic Chemistry)
(iii) भौतिक रसायन (Physical Chemistry)
(iv) विश्लेषणात्मक रसायन विज्ञान (Analytical Chemistry)

(1)   कार्बनिक रसायन: 

   कार्बनिक रसायन में कार्बन और उसके योगिकों का अध्ययन किया जाता है इस विज्ञान के अंदर कार्बन की योगिक जैसे कार्बोनेट बाइकार्बोनेट सायनाइड आइसोसायनाइड कार्बाइड और कार्बन ऑक्साइड आदि का अध्ययन शामिल नहीं किया जाता है। यह वास्तव में हाइड्रोकार्बन और उनके डेरिवेटिव का अध्ययन है।
 

(2) अकार्बनिक रसायन विज्ञान:

   यह कार्बनिक पदार्थो को छोड़कर सभी ज्ञात तत्वों और उनके यौगिकों के अध्ययन से संबंधित है। इसका संबंध खनिजों, वायु, समुद्र और मिट्टी से प्राप्त सामग्री से है। 
 

(3) भौतिक रसायन(physical chemistry):

  भौतिक रसायन पदार्थ के भौतिक गुणधर्म व उसकी संरचना से संबंधित है इसके अंतर्गत रासायनिक सिद्धांतों के नियम और होने वाली प्रक्रियाओं का अध्ययन किया जाता है। किसी अभिक्रिया के ऊपर तापमान, दाब,प्रकाश, व सांद्रता के प्रभाव को समझना भौतिक रसायन के अध्ययन से ही संभव है। 

 

(4) विश्लेषणात्मक रसायन: 

  यह गुणात्मक और मात्रात्मक दोनों प्रकार के रासायनिक पदार्थों के विश्लेषण के विभिन्न तरीकों से संबंधित है। इसमें विश्लेषण के रासायनिक और भौतिक तरीके शामिल हैं।
   रसायन विज्ञान के अध्ययन को इन 4 शाखाओं में सीमित नहीं किया जा सकता क्योंकि इसका क्षेत्र बहुत विस्तृत है इसलिए इसके असाधारण विस्तार को अध्ययन के माध्यम से समझने के लिए बहुत-सारी विशेष शाखा मैं इसको विभाजित किया जाता ह। इन विशिष्ट शाखाओं को रसायन विज्ञान के विषय में असाधारण विस्तार को वैज्ञानिक तरीके से आसानी से समझा जा सके, के लिए पेश किया गया है। कुछ विशेष शाखाएँ हैं: 

(i) बायोकेमिस्ट्री(Bio Chemistry):

 इसमें जीवित जीवों और जीवन प्रक्रियाओं से संबंधित उप चरणों का अध्ययन शामिल है। जैव रसायन विज्ञान कोशिकीय और आणविक स्तर पर जैविक प्रक्रियाओं के अध्ययन के लिए रसायन विज्ञान का अनुप्रयोग है। यह 20 वीं शताब्दी की शुरुआत के आसपास एक विशिष्ट अनुशासन के रूप में उभरा जब वैज्ञानिकों ने रसायन विज्ञान, शरीर विज्ञान और जीव विज्ञान को आपस मे जीवित प्रणालियों के रसायनिकी (कैमिस्ट्रि) की जांच के लिए जोड़ा गया।
जैव रसायन सभी जैविक प्रक्रियाओं को समझने की आधारशिला बन गयी है। इसने मनुष्यों, जानवरों और पौधों में कई बीमारियों के कारणों के बारे में स्पष्टीकरण प्रदान किया है। यह अक्सर ऐसे तरीकों का सुझाव दे सकता है जिनके द्वारा बीमारियों का उपचार किया जा सकता है। 

(ii) औषधीय रसायन(Medicinal Chemistry):
यह जीवित प्राणियों में विभिन्न रोगों की रोकथाम और उनके उपचार के लिए कम आने वाले रासायनिक पदार्थों से संबंधित है।औषधीय रसायन विज्ञान दवाओं को बनाने के लिए उपयोग उपयोग मे आने वाले रासायनिक यौगिकों के डिजाइन, अनुकूलन और विकास से संबंधित है 

(iii) मृदा और कृषि रसायन:

यह फसलों के बेहतर उत्पादन के लिए इसकी उर्वरता बढ़ाने के लिए मृदा के विश्लेषण और उपचार से संबंधित है। इसका संबंध रसायनों से है जो कृषी की गुनवता मे सुधार करके उत्पादन बड़ाते है जेसे -उर्वरक, कीटनाशक, कीटाणु, जड़ी-बूटी, आदि।
कृषि रसायन विज्ञान कृषि क्षेत्र के संबंध में रसायन विज्ञान और जैव रसायन का एक साथ अध्ययन है। कृषि रसायन विज्ञान में, कृषि उत्पादन, कृषि उत्पादों के उपयोग और पर्यावरणीय मामलों जैसे अनेक कारकों का अध्ययन किया जाता है साथ ही साथ उन्हें सुधारने के तरीके भी विकसित किए जाते हैं। कृषि रसायन विज्ञान में, पौधों, जानवरों और पर्यावरण के बीच संबंधों को बढ़ावा दिया जाता है जिससे की कृषि क्षेत्र में सुधार किया जा सके।
जैव रसायनविज्ञानी अपने जैव रसायन(bio-chemistry) के ज्ञान का उपयोग पशुधन,फसलों के उत्पादन, संरक्षण और उपयोग में सुधार के लिए किया जा सकता है। अनुप्रयुक्त विज्ञान के रूप में, कृषि रसायन विज्ञान के कुछ मुख्य उद्देश्य हैं:
1. फसलों और पशुधन की उपज में वृद्धि
2. उत्पादों की गुणवत्ता में सुधार
3. उत्पादों की लागत कम करना
4. मिट्टी की गुणवत्ता में सुधार
5. हमारी आवश्यकताओं की स्थिरता प्रदान करना
6. उर्वरकोंऔर पौधों के विकास नियामकों का विकास करना

(iv) खाद्य रसायन (Food Chemistry)

खाद्य रसायन (Food Chemistry) खाद्य पदार्थों के सभी जैविक और गैर-जैविक घटकों की रासायनिक प्रक्रियाओं(Chemical Process) और उनके संबंधो(Interaction) का अध्ययन है।जैविक पदार्थों में उदाहरण के तौर पर पोल्ट्रीमांसलेट्यूसबीयर और दूध जैसी चीजें शामिल हैं। यह कार्बोहाइड्रेटलिपिड और प्रोटीन जैसे इसके मुख्य घटकों में जैव रसायन (Bio-Chemistry) के समान ही है,परंतु इसमें पानीविटामिनखनिजएंजाइमखाद्य पदार्थ , स्वाद और रंग जैसे क्षेत्र भी शामिल हैं।
Food Chemistry में यह भी शामिल है कि कुछ खाद्य प्रसंस्करण तकनीकों के तहत उत्पाद कैसे बदलते हैं या उन्हें बढ़ाने या रोकने के तरीके हैं क्या है । का एक उदाहरण के लिए कैसे सूक्ष्मजीव सा डेयरी उत्पादों के किण्वन को प्रोत्साहित करना करते हैइस प्रक्रिया मे लैक्टोज को लैक्टिक एसिड में कैसे परिवर्तित करते हैंउदाहरण नींबू का रस या अन्य अम्लीय पानी का उपयोग करके कैसे ताजे कटे सेब की सतह पर भूरापन को रोका जा सकता है।
 

(v) भू-रसायन (Geo-Chemistry):

इसमें प्राकृतिक उपनक्षत्र जैसे अयस्क और खनिजकोयलापेट्रोलियमआदि का अध्ययन शामिल है जियोकेमिस्ट्री के क्षेत्र में पृथ्वी और अन्य ग्रहों की रासायनिक संरचनाचट्टानों और मिट्टी की संरचनापृथ्वी के रासायनिक घटकों को शामिल करने वाले चक्र और भूमि और पानी के साथ उन चक्रों की संबंधो का अध्ययन शामिल है।
 
कुछ सवालों के बारे में जियोकेमिस्ट्री जवाब देने की कोशिश करती है
विभिन्न स्थानों पर मिट्टी और चट्टानों में कौन से तत्व और रसायन मौजूद हैं?
ये मिट्टी और चट्टानें कैसे बदल रही हैं और सदियों से ये कैसे बदल गई हैं?
हम उन परिवर्तनों से क्या सीख सकते हैं?
जीवित चीजें जैसे कि पौधे और जानवर अपनी मृत्यु के बाद कैसे विघटित होते हैं ?
और किस तरह की नई चीजों का निर्माण करते हैं जब वे पर्यावरण के संपर्क मे आते है (जैसे कि जीवाश्म या हाइड्रोकार्बन,तेल) ?
विभिन्न प्रक्रियाएं पर्यावरण को कैसे प्रभावित करती हैं,
और पर्यावरण, मौसम और अन्य प्रभाव उन्हें कैसे प्रभावित करते हैं?

(vi)  औद्योगिक रसायन( Industrial Chemistry): 
 यह अध्ययन के साथ संबंधित है अपेक्षाकृत कम लागत पर बड़े पैमाने पर उपयोगी रसायनों के उत्पादन के लिए रासायनिक प्रक्रियाएं के अध्ययन के साथ संबंधित है। 


(vii) नाभिकीय रसायन

 यह सबसे हालिया शाखा है इसमें परमाणु प्रतिक्रियाओं का अध्ययनरेडियोधर्मी आइसोटोप का उत्पादन और विभिन्न क्षेत्रों में उनके अनुप्रयोग शामिल हैं।

 

(viii) संरचना रसायन: 
   यह रासायनिक योगिको की  संरचना  को  जानने   के लिए  उपयोग किए  जाने  वाले  विभिन्न तकनिकों से  संबंधित है।यह उनकी संरचना तथा अन्तरिक्ष मे उनके अणुओ के अभिन्यास के बारे मे बताती है|

(ix) बहुलक रसायन(Polymer Chemistry):  
  विज्ञान के संदर्भ में पदार्थों के गुणों से संबंधित हैइसमें 100,000 या अधिक के क्रम के बहुत उच्च आणविक द्रव्यमान के रासायनिक पदार्थों का अध्ययन शामिल हैजिन्हें पॉलिमरप्राकृतिक या कृत्रिम कहा जाता है यह शाखा इन दिनों प्लास्टिकरबरसिंथेटिक फाइबरसिलिकन आदि के उपयोग से लोकप्रियता प्राप्त कर रही है।

(x) लिमोनो केमिस्ट्री:

यह नदी के जल या जल जलाशयों में शामिल रसायन विज्ञान के अध्ययन से संबंधित है।
(x) फाइटोकेमिस्ट्री: 
पौधों के रसायनो के विज्ञानकाअध्ययनशामिलहै।इसप्रकार, यहकहाजासकताहैकिविज्ञानकीकोईअन्यशाखानहींहैजोरसायनकेदायरेमेंइतनीव्यापकहै|

कुछ विशेष रहस्यमयी (Magic) विज्ञान प्रयोग जिनको घर पर कर सकते हैं

हम सभी इस बात से पूर्णतया सहमत हो सकते हैं कि विज्ञान एक बहुत ही कमाल का है विषय(subject) है। इनके कुछ चमत्कारी प्रोयोगों को आप अपने खुद के घर मे आजमा सकते है और घर मे सुंदरता (Awesomeness) ला सकते है और आप इन सुरक्षित प्रयोगों के साथ अपने खुद के घर मे साधारण घरेलू सामानों के साथ कर आसानी से कर सकते हैं।

Secret संदेश लिखने के लिए अदृश्य स्याही कैसे बनाई जाती है?

Secret Message को लिखने और प्रकट करने के लिए अदृश्य स्याही बनाना एक विज्ञान परियोजना है, भले ही आपके पास सही रसायन (Chemical) नहीं है। किसी भी रसायन (Chemical) का उपयोग अदृश्य स्याही के रूप में किया जा सकता है यदि आप जानते हैं कि इसका उपयोग कैसे करना है।
आप उन संदेशों को कैसे प्रकट करते हैं, यह आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली स्याही पर निर्भर करता है। अधिकांश अदृश्य स्याही कागज को गर्म करके दिखाई देते हैं। कागज को इस्त्री करना और इसे 100-वाट बल्ब पर रखना इस तरह के संदेशों को देखने के लिए आसान तरीके हैं। कुछ संदेश एक दूसरे रसायन के साथ कागज को छिड़कने या पोंछने से विकसित होते हैं। एक अन्य विधि में इन संदेशों को कागज पर एक पराबैंगनी प्रकाश द्वारा दिखाई देता है।

तरल नाइट्रोजन(Liquid Nitrogen) से आइसक्रीम कैसे बनाये ?

तरल नाइट्रोजन(Liquid Nitrogen) का उपयोग कर आप तुरन्त स्वादिस्ट और सुंदर आइसक्रीम बनाने सकते हैं। यह एक अच्छा क्रायोजेनिक्स या अवस्था परिवर्तन प्रदर्शन का उदाहरण है। इसको बनाने का तरीका बहुत सादा और मजेदार है। इस रेसिपी की सहायता से आप स्ट्रॉबेरी/ वैनिला/ चॉकलेट या फिर अपनी मनपसंद का फ्लेवर की आइसक्रीम बना कर अपने परिवार और रिस्तेदारों के साथ लुफ्त उठा सकते है। इस विधि मे प्रयोग करने के लिए स्वतंत्र हो और वो नए नए प्रयोग आपकी आइसक्रीम को और भी स्वादिस्ट बना देंगे !
सबसे पहले एक कटोरे में Whipping क्रीम और Half and Half और इसमे Half and Half बराबर मात्रा मे चीनी मिलये और चीनी घुलने तक इस हिलाते रहें। आइसक्रीम सामग्री को कटोरे में लेने के बाद तरल नाइट्रोजन की थोड़ी सी मात्रा डालें। आइसक्रीम को लगातार हिलाते रहें और साथ मे धीरे-धीरे अधिक तरल नाइट्रोजन मिलाते रहें। जैसे ही क्रीम बेस गाढ़ा होने लगे, मसला हुआ स्ट्रॉबेरी स्ट्रॉबेरी/ वैनिला/ चॉकलेट डालें और तेजी से हिलाये। जब आइसक्रीम व्हिस्क के लिए बहुत मोटी हो जाती है, तो लकड़ी के चम्मच को काम मे ले क्योकि यह अधिक कठोर होता है। अब चम्मच को हटा दें और इसे पूरी तरह से सख्त करने के लिए आइसक्रीम पर शेष तरल नाइट्रोजन डालें।
आइसक्रीम को परोसने से पहले अतिरिक्त तरल नाइट्रोजन को हटाने के लिए उबलने दें।
सामाग्री
1.    Liquid nitrogen  4-5 liters
2.    Containerstainless steel punch bowl or salad bowl
3.    Cream- 4 cups heavy cream((whipping cream)
4.    1-1/2 cups of  half-and-half
5.    1-3/4 cups of sugar(also take additional sugar if you want
6.    mashed fresh strawberries or thawed frozen berries
7.    Wooden spoon
8.    Wire whisk
9.    Gloves and goggles  recommended

   तुरंत पानी जमाना (फ्रीज़) करना

   जब शुद्ध पानी को हिमां बिंदु (Melting Point) से ठीक कम तापमान पर ठंडा किया जाता है, और इसमे तुरंत एक त्वरित कुहनी या एक आइसक्यूब रख देते है, यह सब पानी को तुरंत जमने(फ्रीज़) करने मे सहायता करता है । तुम अंत में बहुत छोटे पैमाने पर अद्भुत जमाव की शक्ति (Power Of Incredible Frozen) का प्रोयोग कर सकते हो यह Cool प्रभाव बहुत ही रोचक है !

   पानी को  “रहस्यमय तरीके से” गायब कैसे करे

इस प्रोयोग को करने के लिए सोडियम पॉलीक्रिलेट (Sodium polyacrylate ) का उपयोग किया जाता है, यह एक सुपर-शोषक बहुलक है, जो पानी को अपने वजन से 300 गुना तक अवशोषित करने में सक्षम है। इसका उपयोग डिस्पोजेबल डायपर में किया जाता है|

   चालित तरल (मुविंग लिक्विड) आर्ट कैसे तैयार करे


डिश सोप और दूध को एक साथ मिलाने से दूध की सतह का तनाव टूट जाता है। अब इसमे अलग-अलग फूड कलरिंग को फेंकें और चालित तरल (मुविंग लिक्विड) आर्ट तैयार करे|

1  “जादुई रूप से” पानी से शराब कैसे बनाये (How to Magically Water Turn into Wine)

जब वाइन में पानी डालते है तो वे एक दूसरे की जगह बदल लेती है क्योंकि पानी का घनत्व (density) शराब की तुलना में अधिक होता है, | इस मजेदार विज्ञान चाल के साथ अपने दोस्तों को विस्मित करो विज्ञान की तकनीक उनको भी समझाओ आसान तरीके से|

 

           कैंडी में ऊर्जा को कैसे छोड़ें (without eating)

   पोटेशियम क्लोरेट के साथ एक परखनली में एक चिपचिपा बियर(bear) के छोड़ने से एक तीव्र रासायनिक प्रतिक्रिया होती है जिसके के अंदर रासायनिक ऊर्जा निकलती है। बच्चों जब आप कैंडी खाते हैं, तो आपके साथ ऐसा ही होता है।

1  फूलो से गहरी रंगीन लाइन( Carnations) कैसे बनाये

फूल अपने तने के माध्यम से पानी को अवशोषित करते हैं, और अगर उस पानी में भोजन रंग छोड़ देते है, तो फूल भी उस रंग को अवशोषित करेंगे। इन इस प्रकार अलग अलग फूड कलर के साथ कुछ शानदार रंगीन फूल बना सकते है ।

 रसायन विज्ञान के इतिहास का संक्षिप्त विवरण

उस समय को निर्दिष्ट करना मुश्किल है जब रसायन विज्ञान विज्ञान अस्तित्व में आया; हालाँकि, समय और सभ्यता की वृद्धि के साथ। के साथ-साथ इसका विकास हुआ है मोटे तौर पर, रसायन विज्ञान का इतिहास विकास के पाँच अवधियों के अंतर्गत अध्ययन किया जा सकता है। ब इसमे अलग-अलग फूड कलरिंग को फेंकें और चालित तरल (मुविंग लिक्विड) आर्ट तैयार करे|
 
प्राचीन अवधि( AncientPeriodup to 350 A.D.)

प्राचीन काल में: कई रासायनिक क्रियाओं जैसे दूध का खट्टा होना, मीठे रस और मदिरा का रूपांतरण, मदिरा का सिरका में परिवर्तित होना, आदि ज्ञात थे। लगभग 3000 ई.पू., कांच बनाने की तकनीक। मिट्टी के बर्तनों के रंजक, रंग, इत्र और धातुओं की निकासी विशेष रूप से सोने और चांदी को चीन, भारत, मिस्र और ग्रीस में जाना जाता है। एक विज्ञान के रूप में रसायन विज्ञान की शुरुआत लगभग 400 ईसा पूर्व निर्धारित की जा सकती थी, जब इस सिद्धांत का प्रस्ताव था कि सब कुछ चार तत्वों से बना है(Everything is made up four element): पृथ्वी, वायु, अग्नि और जल। रसायन विज्ञान की पहली पुस्तक मिस्र में 300 ईसा पूर्व के आसपास लिखी गई थी। रसायन विज्ञान शब्द का अर्थ मिस्र की कला था।

 

एल्केमिकल अवधि (The AlchemyPeriod  3501500):

इस पे पीरियड के दौरान, वैज्ञानिक कीमियागर(Alchemist) के नाम रूप में जाने जाते थे, ने दो चीजों की खोज करने की कोशिश की: जीवन का एक अमृत,जो मनुष्य सदा के लिए युवा बना सकता है और एक दार्शनिक का पत्थर जो जस्ता, तांबा, लोहा इत्यादि जैसे आधारों को सोने मेंप्रसारित कर सकता है। कीमियागर अपने प्रयासों में विफल रहे क्योंकि कोई दार्शनिक पत्थर और जीवन का अमृत वास्तव में अस्तित्व में नहीं था, लेकिन हम नए रासायनिक कार्यों की खोज के लिएउनके ऋणी हैं- जैसे नए प्रकार के उपकरणों का डिजाइन, आसवन प्रक्रिया, अमलगम प्रक्रिया द्वारा सोने की निकासी आदि ।
 
(iii) लेट्रो केमिस्ट्री पीरियड 15001650:

इस युग के दौरान, केमिस्टों ने मेडिको(Medico)रासायनिक समस्याओं की ओर अपना ध्यानदिया। उनका मानना था कि रसायन विज्ञान का प्राथमिक उद्देश्य दवाओं को तैयार करना हैं न कि आधार धातुओं से सोना बनाना। इस अवधि के दौरान गैसों का अध्ययन शुरू किया गया था और पहली बार मात्रात्मक प्रयोग किए गए।रॉबर्ट बॉयल(1627-1691) ने पाया कि जब किसी धातु को हवा में गर्म किया जाता है, तो द्रव्यमान बढ़ता है। उन्होंने गैस के आयतन और दबाव के बीच संबंध भी स्थापित किया। 1661 में बॉयल ने द स्केप्टिकल चाइमिस्ट(Skeptical Chymist) पुस्तक लिखी जिसमें उन्होंने कीमिया (alchemy) के मूल विचारों की आलोचना की।
फ्लॉजिस्टन अवधि (1650-1774): 

फ्लॉजिस्टन सिद्धांत को अर्नस्ट स्टाल(Ernst Stahl) द्वारा प्रस्तावित किया गया था। फ्लॉजिस्टन को दहनशील सामग्री में एक पदार्थ के रूप में वर्णित किया गया था जो सामग्री के जलने पर बंद कर दिया जाता है।यह सिद्धांत लगभग 100 वर्षों तक कायम रहा और बहुत विवाद का केंद्र रहा। अठारहवीं शताब्दी के अंत के दौरान, गैसों के साथ बहुत काम कियागया था, खासकर जोसेफ ब्लैक, हेनरी कैवेंडिश, जोसेफ प्रीस्टले और कार्ल शेहले द्वारा। प्रिस्टले एक बहुत ही रूढ़िवादी वैज्ञानिक थे। ऑक्सीजन की खोज के बाद भी, वह अभी भी फ्लॉजिस्टन सिद्धांत में विश्वास करता था।

 

आधुनिक काल

फ्रांस के एक रसायनशास्त्री एंटोनी लैवॉइसियर(Antoine Lavoisier) को आधुनिक रसायनशास्त्र का जनक माना जाता है। उन्होंने दहन का सटीक विवरण प्रस्तुत करते हुए कहा कि दहन के लिए ऑक्सीजन आवश्यक है। यह अवधारणा के लिए बहुत हद तक फ्लॉजिस्टन सिद्धांत जिम्मेदार थी। अपने अन्य योगदानों के बीच, उन्होंने दिखाया कि पानी हाइड्रोजन और ऑक्सीजन का संयोजन है, जो पदार्थ के अविनाशी सिद्धांत का प्रस्ताव करता है, एक तत्व की स्पष्ट परिभाषा प्रस्तुत करता है और रासायनिक नामकरण की एक प्रणाली प्रस्तावित करता है। आधुनिक रसायन विज्ञान की ओर एक और बड़ा कदम उठाया गया।
उन्नीसवीं सदी का पहला दशक जब रसायनशास्त्री, जॉन डाल्टन ने पोस्ट किया कि सभी तत्व परमाण ओं से बने हैं। उन्होंने परमाणुओं को छोटे, अविनाशी इकाइयों के रूप में चित्रित किया जो यौगिक परमाणुओं या अणुओं के रूप में संयोजित हो सकते थे। डाल्टन ने प्रस्तावित किया कि प्रत्येक तत्व के अपने प्रकार के परमाणु होते हैं और विभिन्न तत्वों के परमाणु अनिवार्य रूप से कुछ नहीं बल्कि उनके द्रव्यमान में भिन्न होते हैं। उन्होंने कई तत्वों के परमाणुओं के सापेक्ष द्रव्यमान का निर्धारण किया। इस प्रकार, एक नए युग की शुरुआत हुई थी।
उन्नीसवीं सदी  की इस अवधि के अन्य महत्वपूर्ण रसायनज्ञ हैं:
  1.  रिच्टर (Richter) – पारस्परिक अनुपात का नियम (1794)
  2. प्राउस्ट (Proust) –लॉ ऑफ डेफ़िनिटे प्रॉपरिशन (1799))
  3. गेलुसैकलॉ ऑफ कॉम्बिनेशन वॉल्यूम ऑफ गैसेस (1808)
  4. एवोगाड्रोएवोगाडरो परिकल्पना– (Avogadro Hypothesis -1811)
  5. बर्जेलियस– तत्वो के आधुनिक (1813)
  6. फैराडेलॉ ऑफ इलेक्ट्रोलिसिस (1833)
  7. थॉमस ग्रेहमलॉ ऑफ गैसीय डिफ्यूज़न (1861)
  8. मेंडेलीव – आवर्ती नियम (Periodic Law) और आवर्त सारणी (1869)
  9. एरहेनियसथ्योरी ऑफ इओनिसेशन (1887))
  10. हेनरी बेकरेलडिस्कवरी ऑफ रेडियोएक्टिविटी (1896)
  11. मैडम क्यूरी ने रेडियम और पोलोनियम (1898) की खोज की।
रसायन शास्त्र के एक सक्रिय युग के रूप में माना जाता है। इस अवधि के दौरान, रसायन विज्ञान ने मानव ज्ञान और सभ्यता के लिए कई सहायक धाराएं बनाई हैं। अब, हम सिंथेटिक सामग्री की दुनिया में रहते हैं। आज का रसायन विज्ञान वास्तव में हमारे वर्तमान नागरिक सभ्यता की बड़ी समस्याओं को सुलझाने में मदद कर रहा है जैसे कि जनसंख्या विस्फोट, भोजन और बीमारियां, ऊर्जा के स्रोतों में कमी, प्राकृतिक स्रोतों की कमी और मानसिक प्रदूषण।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *